रचना चोरों की शामत

Monday, 17 August 2015

ऋतु स्वतंत्रता की है


फना हुईं गुलामियाँ, ये ऋतु स्वतन्त्रता की है
अमन की बात बोलिए, कि प्रात, वंदना की है

लपेट लोभ, छल-कपट, बिछी हुई हैं गोटियाँ
विजित न जीत हो कि ये, बिसात, दासता की है  

मिटे जो देश के लिए, शहीद, उनकी याद में  
जलाएँ इक दिया पुनः, ये रात प्रार्थना की है

रहें न वे अपूर्ण अब, स्वतंत्र राजतंत्र में
जो ख्वाब हर सपूत के, जो आस हर सुता की है

भुलाके द्वेष-क्लेश सब, करें नमन निशान को
सुयोग से मिली हमें, ये भू परम्परा की है

सदय बनें, सुदृढ़ बनें, हृदय उतार लें चलो
हवाओं में घुली हुई जो सीख हर ऋचा की है  

ढले कभी न सूर्य अब, सुराज, सौख्य, सत्य का
सुयोग से मिली हमें, हयात, ज्योत्सना की है

करें न अंध अनुकरण, विदेशी रीति-नीति का  
स्वदेश की पुकार ये, गुहार माँ धरा की है    

रुकें न पग प्रयास के, झुके न अब ध्वजा कभी
बनी रहे स्वतन्त्रता, ये चाह कल्पना की है 

-कल्पना रामानी  

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र