रचना चोरों की शामत

Friday, 27 March 2015

चाह में जिसकी चले थे

चित्र से काव्य तक
चाह में जिसकी चले थे, उस खुशी को खो चुके।
दिल शहर को सौंपकर, ज़िंदादिली को खो चुके।

अब सुबह होती नहीं, मुस्कान अभिवादन भरी,
जड़ हुए जज़्बात, तन की ताज़गी को खो चुके।

घर के घेरे तोड़ आए, चुन लिए हमने मकान,     
चार दीवारों में घिर, कुदरत परी को खो चुके। 

दे रहे खुद को तसल्ली, देख नित नकली गुलाब,
खिड़कियों को खोलती गुलदावदी को खो चुके।

कल की चिंता ओढ़ सोते, करवटों की सेज पर,
चैन की चादर उढ़ाती, यामिनी को खो चुके।

चाँद हमको ढूँढता है, अब छतों पर रात भर,
हम अमा में डूब, छत की चाँदनी को खो चुके।

गाँव को यदि हम बनाते, एक प्यारा सा शहर,
साथ रहती वो सदा, हम जिस गली को खो चुके।

-कल्पना रामानी  

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र