रचना चोरों की शामत

Wednesday, 3 September 2014

शाम ढल जाने के बाद


दृग खुले रखना किसी से, प्रीत पल जाने के बाद।
जग नहीं देता सहारा, पग फिसल जाने के बाद।
 
चार होते ही नयन, कर लो हजारों कोशिशें,
त्राण है मुश्किल, नज़र का बाण चल जाने के बाद।
 
बाँध लो प्रेमिल पलों को, ज़िंदगी भर के लिए।
फिर नहीं आता वही मौसम, निकल जाने के बाद।
 
प्यार है अपना खरा, पर खार करता है जहाँ,
प्रिय मिलेंगे हम सदा ही, शाम ढल जाने के बाद।    
 
सब्र से सींचो हृदय में, प्रेम रूपी बीज को,
ख़ुशबुएँ देता रहेगा, फूल-फल जाने के बाद।
 
प्रेम के अतिरेक का, कैसा मिला है फल उसे,
जान पाता है कहाँ, परवाना जल जाने के बाद।   

क्यों डरें हम “कल्पना” जब मीत हर-दम साथ है,
हाथ छूटेगा ये अब तो, दम निकल जाने के बाद।  

----कल्पना रामानी

No comments:

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र