रचना चोरों की शामत

Tuesday, 29 April 2014

कल से मिला वो आज गँवाना तो है नहीं


पुरखों का नेक नाम, डुबाना तो है नहीं।
कल से मिला वो आज, गँवाना तो है नहीं।
 
दागी को देके वोट, जिताना तो है नहीं।
फिर से फिरंगी फौज, बुलाना तो है नहीं।
 
अंग्रेज़ियत को आज, करें किसलिए सलाम,
हिन्दी का हमको मान, घटाना तो है नहीं।
 
अच्छा है कोई ठौर, शहर ने नहीं दिया,
शहरों में जाके गाँव, बसाना तो है नहीं।
 
है भूख को ये आस, कि दो रोटियाँ मिलें,
रोटी का कोई पेड़, उगाना तो है नहीं।
 
मिल जाएगी ज़रूर, सही राह एक दिन,
आगे बढ़ाके पाँव, हटाना तो है नहीं।
 
सच्चाइयों के शूल, किसी को चुभा करें,
अपना भी कोई खास, निशाना तो है नहीं 
 
है चाह “कल्पना” कि रहे शाद ये वतन,
बर्बाद करके जश्न, मनाना तो है नहीं।

--------कल्पना रामानी  

2 comments:

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर.
नई पोस्ट : पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत

Digamber Naswa said...

वाह ... बहुत ही कमाल की ग़ज़ल ... हर शेर कुछ न कुछ कहता हुआ ... बहुत उम्दा ...

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र