रचना चोरों की शामत

Tuesday, 7 January 2014

मन पतंगों संग उड़ना चाहता है

















मन पतंगों संग उड़ना चाहता है।
लग रहा मौसम बदलना चाहता है।
 
बढ़ चले दिन, कद हुआ कम, शीत ऋतु का
धीरे-धीरे तन पिघलना चाहता है।
 
चलते-चलते रुख बदल उत्तर दिशा  को
सूर्य बन-ठन कर टहलना चाहता है।
 
काँपता था बर्फ बारिश में जो शब भर
भोर को वो गुल निरखना चाहता है।
 
नीड़ में दुबका पखेरू मुक्त होकर
डाली-डाली पर विचरना चाहता है।
 
हो चला शोणित तरल, जीवन सरलतम। 
हर कदम आगे को बढ़ना चाहता है।


ज्यों घुले गुड़-तिल, मिले दिल, मुग्ध जन-जन
प्रेम-रस का स्वाद चखना चाहता है।   


- कल्पना रामानी

3 comments:

कालीपद प्रसाद said...

बहुत उम्दा ग़ज़ल !
नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
नई पोस्ट लघु कथा

राजेंद्र कुमार said...

बहुत ही सुन्दर और उम्दा ग़ज़ल कि प्रस्तुति,आभार आदरेया।

संजय भास्‍कर said...

उम्दा चर्चा |

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र